Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

#पंचैती

गावों मे चारों ओर अपराधों के जाल बिछा है,
सामन्तीयों ने वहाँ कमजोरों को सदैव घेरते आया है,
कभी बेटियाँ की ईज्जत पर धावा बोला हैं,
कभी लोगों का धन हड्पने की खेल खेला है
पंचैती के नाम पर गावों मे अत्याचार फैला हैं ।

पैसा लेते समय मित्रों की अदा निभाया है,
फिर्ता मागने पर नानाभाँति के रौव दिखाता है,
खूद बेइमान है दूसरो को वैसे ही ठहराता है,
खैनी, बिडी पर गाव बासियोको बारम्बार बेबकूफ बनाया है
पंचैती के नाम पर फरमान जारी करते आया है ।।

स्वघोषित न्यायाधिश अपने को बनाया है,
बिना प्रमाण के पक्षपाती निर्णय सुनाता हैं,
जिसे खुद न्याय की बात ज्ञात कहाँ है,
वह दूसरो को न्याय दिलाने की बात करते आया है,
पंचैती के नाम पर लोगोंको मुर्ख बन है ।।।

षडयन्त्रकारी के भूमिका मे हमेशा रहा है,
गाव के सोझेसाझे बीच द्वन्द्व बढाया है,
इधर के झगडा उधर लगाया है,
मुक्त मे मटन चपाता आया है,
पंचैती के नाम पर गरीबों पर सितम ढाया हैं IV

#दिनेश_यादव
काठमाडौं (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
अब हम क्या करे.....
अब हम क्या करे.....
Umender kumar
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
सन्देश खाली
सन्देश खाली
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विदाई
विदाई
Aman Sinha
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
"उजाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
#लघुव्यंग्य-
#लघुव्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
अपनापन
अपनापन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
Loading...