Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

न्याय तो वो होता

न्याय तो , वो होता
सब साथ मिलकर लड़े थे,
अंग्रेजी हुकूमत से,
हम बसे है,
उनकी भी बसासत होती,
उनके स्मारक,
हम सबके है.
गर हम हिंद के वासी,
हिंदू
मुस्लिम
सिक्ख
इसाई से पहले भारतीय होते .।
विश्व में एक विचित्र पहचान के लिए,
भारत एक उदाहरण होता,
गर हम धार्मिक ना होते,
सभ्यता थी,
हमारी,
थोड़ी संस्कृति !
हम सूरज थे कभी !!
अब “चांद हैं,
जिसमें दाग है,
चाहे पूर्णिमा का ही !
क्यों न हो !!!
प्रकाश तो सूरज सा हो !!!!
Mahender Singh

Language: Hindi
209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
2409.पूर्णिका
2409.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
Nupur Pathak
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
Sannato me shor bhar de
Sannato me shor bhar de
Sakshi Tripathi
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
*गाजर-हलवा श्रेष्ठतम, मीठे का अभिप्राय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
पापा
पापा
Satish Srijan
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
डी. के. निवातिया
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
धरा
धरा
Kavita Chouhan
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
"पता सही होता तो"
Dr. Kishan tandon kranti
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
■ देसी ग़ज़ल...
■ देसी ग़ज़ल...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...