Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

नौकरी

मैंने उसे देखा वो काम में खोया
रात भर जाग कर पूरी नींद ना सोया
आंखे अभी बोझिल थी, भौंहे अब भी चढ़ी हुई
बचे काम से उसकी जैसे, अब भी हो ठनी हुई

होठ सूखे थे उसके, और कंठ भी प्यासे थे
दिमाग सन्न था उसका, शब्द भी रूहासे थे
पेशीयाँ परेशान जैसे, ऐठन से हो भरी हुई
अस्थियां भी टूटने की, हो रास्ते में अड़ी हुई

रात का तीसरा प्रहर भी बीतता है जा रहा
तय समय की बात जैसे याद हो दिला रहा
काम पूरा ना हुआ जो, घर वो न जा पाएगा
अपनी नन्ही सी परी को, आज भी ना देख पाएगा

कल पूछा था परी ने उससे, शाम को तुम कब आओगे?
गोद में अपने बैठा कर, क्या आज रोटी तुम खिलाओगे ?
कई दिन हुए पापा, आपको देखा नहीं
खिलौने के साथ अब, दिल मेरा लगता नहीं

माँ कहती हैं रोज़ रोज़, तुम देर रात को आते हो
मुझको सोते देख कभी तुम, तनिक भी नहीं उठाते हो
दो क्षण को पलक जो झपकी, सपने में ये देख लिया
थके हुए नज़रों ने जैसे, चन्दन को हो लेप लिया

पुरे बदन में बिजली दौड़ी, काम में वो जुट गया
जाने के पहले सभी वो , काम सारे कर गया
खड़ा हुआ वो बोला खुद से, अच्छा अब मैं चलता हूँ
आगे दो दिन की छुट्टी है, परी संग बिता के आता हूँ

147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
"बेटी और बेटा"
Ekta chitrangini
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ज़िंदगी - एक सवाल
ज़िंदगी - एक सवाल
Shyam Sundar Subramanian
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी को खुद से जियों,
जिंदगी को खुद से जियों,
जय लगन कुमार हैप्पी
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
Sonam Puneet Dubey
"जीवन का संघर्ष"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
तलबगार दोस्ती का (कविता)
तलबगार दोस्ती का (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
शिक़ायत नहीं है
शिक़ायत नहीं है
Monika Arora
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...