Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

नींद ( 4 of 25)

नींद

जब नींद को
नींद आ जाती है ..
तब नींद
नहीं आ पाती …
और नींद के
जागने के लिए ,
दर्द का सोना
बहुत जरूरी है …

क्षमा उर्मिला

2 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बचपन
बचपन
Vedha Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
श्याम सिंह बिष्ट
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
"बहरापन"
Dr. Kishan tandon kranti
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
19. कहानी
19. कहानी
Rajeev Dutta
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
लव यू इंडिया
लव यू इंडिया
Kanchan Khanna
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
CA Amit Kumar
लोकतंत्र
लोकतंत्र
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
अलगाव
अलगाव
अखिलेश 'अखिल'
💐प्रेम कौतुक-526💐
💐प्रेम कौतुक-526💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...