Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

नारी नारायणी

दिन भर बैठी आस लगाए
प्रियतम मन ही मन मुस्काए
बरतन घस संगीत बजाए
कपडों से बतियाती जाए

ज्यों दफतर को निकले साजन
तन्हा लागे सब धर आंगन
टीवी में कैसे मन उलझाए
सुनसानी को ही पीती जाए

सुंदर दिखे सदा धर अपना
खुद सुंदर खिला चेहरा भी रखना
नियम रोज बनाती जाए
पर सब खुश फिर भी ना रह पाए

बच्चे बुड्ढों सबकी मां
सबके दुख को हरती हां
सेहत मे वो धुलती जाए
माथे पर वो शिकन ना लाए

तन मन से वो थक कर बोझल
टूटी झुकी ना कुछ कह पाए
शाम ढले जब साजन धर आए
उस पे अपनी भड़ास लुटाए

Language: Hindi
3 Likes · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr Shweta sood
First impression is personality,
First impression is personality,
Mahender Singh
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*दोस्त*
*दोस्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
"भावना" तो मैंने भी
*Author प्रणय प्रभात*
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
Loading...