Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 2 min read

नारी का बदला स्वरूप

बेटी जब शादी करके अपनी, पति संग अपने घर जाती थी।
माता अपनी बेटी को उसके,ससुराल की हर ज़िम्मेदारी बतलाती थी।।
उसके घर की तीन पीढ़ियाँ,अब उस पर निर्भर हो जाती थीं।
घर के हर सदस्य की हरेक जरूरत,बस वही तो पूरी कर पाती थी।।
सबसे पहले उठती थी वो,और सबको सुला कर ही वो सो पाती थी।
हर घर की बहुरानी देखो,घर की दिल की धड़कन कहलाती थी।।
इसीलिए हर नारी अपने घर को,स्वर्ग से सुंदर घर वो बना पाती थी।
और बिना नारी के घर की तुलना,सीमेंट और रेत के घर से की जाती थी।।
अब दौर आ गया पैसे का अब घरवाली नहीं पैसे वाली ही पायी जाती है।
इसीलिए हर लड़के के मन में नौकरी करने वाली की इच्छा पायी जाती है।।
माता के द्वारा बेटी के घर की कल्पना, पति पत्नी के घर से कराई जाती है।
सास ससुर और बाकी रिश्तों से बेटी को दूर रहने की शिक्षा पढ़ाई जाती है।।
डिलीवरी की जिम्मेदारी बहुत बड़ी है, अकेले रह कर उठाई नहीं जाती है।
आज की नारी इन दो पीढ़ियों का पालन करने में खुद को अक्षम पाती है।।
परिवार की परिभाषा तो पति पत्नी या सिर्फ एक बच्चे से ही पूरी हो जाती है।
नतीजन अब घर में बुआ चाची ताई मौसी मामी या बहन,भाभी ना पाई जाती है।।
आज की पढ़ी लिखी नारी बच्चा पैदा करने में असमर्थ पाई जाती है।
अनपढ़ के घर में बच्चों की पैदाइश ऊपर वाले की मर्जी बताई जाती है।।
कहे विजय बिजनौरी नारी भारत के हर घर में लक्ष्मी सी पूजी जाती थी।
आज की नारी कितनी लक्ष्मी कमाती है यह देख कर ही अपनाई जाती है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
इंजी. संजय श्रीवास्तव
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
आज का महाभारत 1
आज का महाभारत 1
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा पंचक. . . .इश्क
दोहा पंचक. . . .इश्क
sushil sarna
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
*भूमिका*
*भूमिका*
Ravi Prakash
मुस्कान
मुस्कान
Santosh Shrivastava
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
Loading...