Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

नारी का अस्तित्व

नारी का अस्तित्व

पग-पग पर संघर्ष, झेलती आई नारी ।
दो धारी तलवार, शीश पर जिम्मेदारी।।
मनुज सोच निर्वस्त्र, दिखाई देती जग में।
नारी का अस्तित्व, रक्त रंजित रग-रग में।।

रेखा कापसे ‘कुमुद’
नर्मदापुरम मप्र

1 Like · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
Ravi Prakash
आसमान पर बादल छाए हैं
आसमान पर बादल छाए हैं
Neeraj Agarwal
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
.        ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
. ‼️🌹जय श्री कृष्ण🌹‼️
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
3136.*पूर्णिका*
3136.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
Loading...