Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।

नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
देश भक्ति की फुंकारों से,लावा बलिदान का वो दहका गया।
करके गया था आने का वादा,वो लिपट तिरंगा ले आ ही गया।
भारत के चौड़े सीने पर चमका तमगा,बन वो शौर्य गाथा न्यारा-
बलिदान हुए कर्तव्य निभाते, शूरवीरों को नमन हमारा।
बेटी वसुधा नाम धरो,ग़र पुत्र हो तो वतन नाम शुभ धरना।
अंतिम इच्छा प्राण प्रिया यही,मेरी इच्छा पूरी तुम करना।
गर्व करना बलिदान पर मेरे,तुम प्रिय नीर नयन मत भरना।
शहीद हो,मरने से पहले मैंने दुश्मन को ललकार कर मारा-
बलिदान हुए कर्तव्य निभाते, शूरवीरों को नमन हमारा।
नीलम शर्मा
——————————————–

नीलम शर्मा ✍️

324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
Meenakshi Masoom
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
😊कुकडू-कुकडू😊
😊कुकडू-कुकडू😊
*प्रणय प्रभात*
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
Sunil Maheshwari
जब कभी  मिलने आओगे
जब कभी मिलने आओगे
Dr Manju Saini
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
अनिल "आदर्श"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अधरों ने की  दिल्लगी, अधरों  से  कल  रात ।
अधरों ने की दिल्लगी, अधरों से कल रात ।
sushil sarna
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
Rekha khichi
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Shyam Sundar Subramanian
बीवी के अंदर एक मां छुपी होती है,
बीवी के अंदर एक मां छुपी होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
राखी
राखी
Shashi kala vyas
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
हमारे प्यारे दादा दादी
हमारे प्यारे दादा दादी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
Loading...