Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*

पीड़ित-प्रताड़ित मानव ने
जब-जब लगाई गुहार
तब-तब ही हुई अवतरित,
शक्ति ने किया आततायी-संहार|

चक्रधर ने भी ज्यों त्याग निद्रा
किया चक्र-संधान
हुए नयन तुम्हारे भी
प्रज्ज्वलित अग्नि समान|

कोई आपदा-विपत्तियों का दौर
किन्तु आज ही नहीं, हर बार
अकेले तुम ही नहीं
हम भी हैं रण हेतु तैयार|

व्याख्यान भी तुम्हारा
है सिंहनाद के समान
अश्रुपात से होता है
झरने के रौरव निनाद का भान|

संकल्पित हो यदि तुम
तो हम भी कृत-संकल्प
अरि हैं यदि चहुँ ओर
तो तत्पर है अरिहन्त!

शब्दार्थ
रौरव-भीषण, भयंकर
निनाद-ज़ोर की आवाज़
अरिहंत-अर्हत् (संस्कृत) और अरिहंत (प्राकृत) पर्यायवाची शब्द हैं। अतिशय पूजा-सत्कार के योग्य होने से इन्हें (अर्ह योग्य होना) कहा गया है। मोहरूपी शत्रु (अरि) का अथवा आठ कर्मों का नाश करने के कारण ये ‘अरिहंत’ (अरि=शत्रु का नाश करनेवाला) कहे जाते हैं।

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
ज़िंदगी खुद ब खुद
ज़िंदगी खुद ब खुद
Dr fauzia Naseem shad
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
प्रिये का जन्म दिन
प्रिये का जन्म दिन
विजय कुमार अग्रवाल
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
Ravi Prakash
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
Ms.Ankit Halke jha
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*Author प्रणय प्रभात*
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
ruby kumari
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
कवि दीपक बवेजा
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Being quiet not always shows you're wise but sometimes it sh
Sukoon
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
Phool gufran
प्रणय 4
प्रणय 4
Ankita Patel
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
Loading...