Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2022 · 2 min read

धार्मिक_आलेख / तुलसी का दास्य भाव


■ दास्य भाव के सर्वोच्च प्रतीक गोस्वामी तुलसीदास !
【प्रणय प्रभात】
एक प्रेरक वक्ता के रूप में लगभग दो दशक तक सक्रिय रहा। ईश कृपा से एक हज़ार के आसपास कार्यक्रमों में उद्बोधन का अवसर मिला। श्री रामचरित मानस के महान पात्रों व प्रसंको सहित तमाम रोचक व प्रेरणादायी तथ्य मेरे वक्तव्यों में सहज ही समाहित होते रहे। जिनका श्रेय श्री रामकथा मंदाकिनी के उन अनेकानेक प्रवाचकों को समर्पित है, जिनके वचनामृतो को ग्रहण कर कई संशय दूर हुए। कुछ प्रभाव सतत स्वाध्याय का भी रहा। जीवन पर इस दिव्य महाग्रंथ का सर्वाधिक प्रभाव रहा जो विगत दो वर्ष के कालखंड में और उत्कर्ष पर आया। हिंदी साहित्य के एक विद्यार्थी के रूप में भी गोस्वामी तुलसीदास जी मेरे सर्वाधिक प्रिय कवि रहे। संवाद शैली में अपने उद्बोधन के बीच प्रश्न करना मुझे सदैव भाया। इससे वक्ता व श्रोताओं के बीच एक रुचिकर सामंजस्य जो स्थापित होता है। कई कार्यक्रमों में मैंने यह प्रश्न विद्यार्थियों के बीच रखा कि-
“बंदहु गुरुपद पदमु परागा, सुरुचि सुवास सरस अनुरागा” में गोस्वामी जी ने किस की वंदना की है। हर बार सतही स्तर पर एक सा उत्तर मिला- “गुरु चरणों की।” चौपाई के मर्म तक महाविद्यालय के विद्यार्थी भी नहीं पहुंचे। यूँ भी कह सकते हैं कि उन्होंने महाकवि की अगाध श्रद्धा के स्तर को जानने का प्रयास ही नहीं किया। ऐसे तमाम विद्यार्थियों को बताना पड़ा कि इस एक चौपाई में गुरु या गुरु चरण नहीं बल्कि “चरण-रज” (धूल) की वंदना की गई है। जो गोस्वामी जी को दास्य भाव का सर्वोत्कृष्ट कवि सिद्ध करती है। इस चौपाई का भावार्थ दास्यभाव का उत्कर्ष है। महाकवि की गुरु के प्रति विनम्र आस्था का प्रमाण भी। स्मरण रहे कि यह वंदना श्री हनुमान जी महाराज के श्रीचरणों की है। जिनकी प्रेरणा से श्री तुलसीदास जी ने इस संसार को श्री रामचरित मानस जैसा महान ग्रंथ दिया। गुरु के कमल रूपी चरणों के परागकण अर्थात रज-कण की वंदना कर बाबा तुलसीदास जी ने गुरु-महात्म्य को नए आयाम भी दिए। जिनके लिए गुरु चरणों में आसक्त प्रत्येक गुरुभक्त को उनके प्रति कृतज्ञ होना चाहिए। ध्यान रहे कि दास्यभाव की पराकाष्ठा का यह एकमात्र उदाहरण नहीं है। बाबा तुलसी श्री हनुमान चालीसा का श्रीगणेश “श्री गुरु चरण सरोज रज” के साथ करते हुए गुरु चरणों की रज के प्रति अपनी इसी निष्ठा को दोहरा चुके हैं। जो उनकी भावनात्मक अनुभूति और भावात्मक अभिव्यक्ति के प्रत्यक्ष प्रमाण हैं तथा इस आलेख के शीर्षक को स्वतः चरितार्थ करते हैं।
जय राम जी की। कोटिशः प्रणाम गोस्वामी जी को।।
【कोलफील्ड मिरर में आज प्रकाशित आलेख, जो साहित्य से संबंधित विद्यार्थियों व शोधार्थियों के लिए उपयोगी हो सकता है】

Language: Hindi
1 Like · 162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इन दिनों
इन दिनों
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत संभाल कर रखी चीजें
बहुत संभाल कर रखी चीजें
Dheerja Sharma
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
"व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते ।
Mukul Koushik
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
सोच
सोच
Srishty Bansal
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
राख देख  शमशान  में, मनवा  करे सवाल।
राख देख शमशान में, मनवा करे सवाल।
दुष्यन्त 'बाबा'
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
इसे कहते हैं
इसे कहते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...