Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

धमकियां शुरू हो गई

तुमसे मिलके तो, मेरी दुनिया शुरू हुई थी
कि धमकियां शुरू हो गई।
तुझे पाने की, खुशियां शुरू हुई थी
कि धमकियां शुरू हो गई।

क्या करू दिल मानता नही तुमसे मिले बगैर
मेरे रग-रग में बसा है तेरे इश्क का जहर क्या
करू तेरे साथ, मस्तियां शुरू हुई थी
कि धमकियां ……..

कैसे दिखाऊं की बर्दी तेरे प्यार का ओढ़ बैठा हु
क्या बताऊं जब तुम पूछती हो की मैं कैसा हु
क्या कहूं जब मेरी खिलियां शुरू हुईं थी
कि धमकियां ………

कब तक किसी के डर से बैठा रहूंगा मैं
जो भी होना होगा उसे देख लूंगा मैं
क्या करू तेरे साथ रहना शुरू हुई थी
कि धमकियां ……..

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
भोले
भोले
manjula chauhan
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
हर लम्हा
हर लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Er. Sanjay Shrivastava
सुबह को सुबह
सुबह को सुबह
rajeev ranjan
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
Ritu Asooja
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
Loading...