Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

दो शे’र

इश्क़ में ग़म , तन्हाई , न जाने क्या क्या मिला ।
बेवफ़ाई हिस्से आयी , हिज्र का सहारा मिला ।।

हम समझ रहे थे बरसाकर मुहब्बत लौट गया होगा ।
फ़लक पर.. आज भी वो बादल आवारा मिला ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी , इंदौर
©काज़ीकीक़लम

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
*साइकिल (कुंडलिया)*
*साइकिल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
होली आयी होली आयी
होली आयी होली आयी
Rita Singh
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ सत्यानासी कहीं का।
■ सत्यानासी कहीं का।
*Author प्रणय प्रभात*
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"रंग भरी शाम"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
SPK Sachin Lodhi
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
जीवन डगर पहचान चलना वटोही
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
Loading...