Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

दोहा

लालच की होती नहीं,जग में कोई थाह।
जो इसमें जितना गया,उतना हुआ तबाह।

होती है क्यूँ प्यार में,अक्सर ऐसी बात।
जिसको दो दिल में जगह,करे वही आघात।

Language: Hindi
1 Comment · 633 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
Suryakant Dwivedi
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
हमने माना अभी अंधेरा है
हमने माना अभी अंधेरा है
Dr fauzia Naseem shad
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
"आदमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
धरती का बुखार
धरती का बुखार
Anil Kumar Mishra
...........
...........
शेखर सिंह
I am sun
I am sun
Rajan Sharma
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
जानता हूं
जानता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं अलग हूँ
मैं अलग हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2720.*पूर्णिका*
2720.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...