Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

देश में क्या हो रहा है?

देश में क्या हो रहा है!
देश में ये क्या हो रहा है!
राजनीति का स्तर गिर रहा है!

पक्ष विपक्ष गरिमा गिरा रहा है!
देश की गरिमा गिरा रहा है!

प्रजातंत्र का लुटिया डुबा रहा है!
प्रजा का विश्वास डगमगा रहा है!

झूठ का व्यापार हो रहा है!
देश की इज्जत निलाम हो रहा है!

बुद्धिजीवी चाटुकार बन रहा है!
पत्रकारिता गुलामी के गीत गा रहा है!

गांधी-नेहरु को खल बना रहा है!
गोडसे अब राम बन रहा है!

धर्म से अब चुनाव लड़ा जा रहा है!
संविधान से मजाक किया जा रहा है!

देश में ये क्या हो रहा है!
रामा देश से राजनीति हो रहा है!

स्वरचित © सर्वाधिकार रचनाकाराधीन

रचनाकार-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सीतामढ़ी।

Language: Hindi
76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
*कर्मठ व्यक्तित्व श्री राज प्रकाश श्रीवास्तव*
Ravi Prakash
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
गीत
गीत
Shiva Awasthi
गाए जा, अरी बुलबुल
गाए जा, अरी बुलबुल
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
परोपकार
परोपकार
ओंकार मिश्र
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
रिश्ता
रिश्ता
Dr. Kishan tandon kranti
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
बसंत
बसंत
manjula chauhan
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
कवि दीपक बवेजा
आज फिर गणतंत्र दिवस का
आज फिर गणतंत्र दिवस का
gurudeenverma198
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
चलो चले कुछ करते है...
चलो चले कुछ करते है...
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...