Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

देश के राजनीतिज्ञ

आजादी की लड़ाई देश के सभी नेताओं को मिलकर अंग्रेजो से लड़नी थी।
इसी लड़ाई की खातिर एक राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी भी तो खड़ी करनी थी।।
मुस्लिम लीग और कम्युनिस्टों के विरोध मे जन्मी कांग्रेस,तब बस यही तीन राजनीतिक दल थे।
गांधी,नेहरू,पटेल,सुभाष,सावरकर,भगत सब के सब कांग्रेस का हिस्सा थे।
सबने ही तो मिलकर हिंदू और मुसलमान के नाम पर जब अखंड देश को बांटा था।
फिर क्यों केवल भारत के मुख पर गांधी और नेहरू का सेकुलरिज्म का चांटा था।।
नेहरू गांधी का सेकुलरिज्म जब गोडसे की समझ में नहीं आया था।
तब देश बचाने की खातिर ही उसने गांधी पर दांव लगाया था।।
कितने साल लगे लोगों को नेहरू खानदान की देशद्रोहिता को पहचानने में।
समय लग रहा है लोगों को देशभक्त और देशद्रोही को अच्छी तरह जानने में।।
कब होंगे आजाद हम अपने ही देश में बसें हुए देशद्रोहियों के चंगुल से।
जब इस देश का हरेक नागरिक पहचाना जाएगा बस बराबरी की नजर से।।
बदले भेष में जो आज पास ही तुम पर घात लगाए बैठे हैं उन्हें तुम सब जानों।
कहे विजय बिजनौरी जागो और मिलकर पड़ोस के देशद्रोही को पहचानो।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
3 Likes · 364 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
■ सोच कर तो देखो ज़रा...।।😊😊
■ सोच कर तो देखो ज़रा...।।😊😊
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
शेखर सिंह
"हासिल"
Dr. Kishan tandon kranti
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
3265.*पूर्णिका*
3265.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
कवि सम्मेलन में जुटे, मच्छर पूरी रात (हास्य कुंडलिया)
कवि सम्मेलन में जुटे, मच्छर पूरी रात (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
Loading...