Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an

‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance and epilepsy attack of love.

‌When vibes match the auras mingle with eachother and the tryst occurs with supremacy.

Relationships shouldn’t be casual like casually we give nicknames. But if the situation is such that nickname is given out of love then all relationships should be such.

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
चित्र आधारित चौपाई रचना
चित्र आधारित चौपाई रचना
गुमनाम 'बाबा'
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
gurudeenverma198
#अच्छे_दिनों_के_लिए
#अच्छे_दिनों_के_लिए
*प्रणय प्रभात*
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दर्द ....
दर्द ....
sushil sarna
रास्तों के पत्थर
रास्तों के पत्थर
Lovi Mishra
याद आती है
याद आती है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कितनी यादों को
कितनी यादों को
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
इतना रोई कलम
इतना रोई कलम
Dhirendra Singh
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
"क्लियोपेट्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
एकांत चाहिए
एकांत चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
Loading...