Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 2 min read

“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)

डॉ लक्ष्मण झा” परिमल ”
==================
पर्वतों से घिरा हमारा दुमका प्रारंभ में प्रकाश से बँचित रहा ! याद है मुझे जब 1958 में मैंने नगरपालिका के डांगालपाड़ा ( हटिया स्कूल ) प्राथमिक स्कूल में पहली क्लास में प्रवेश लिया तो विजली कहीं नहीं थी ! दुमका बाजार के हरेक दुकानों में सिर्फ शाम 6 बजे से 9 बजे तक ही विजली की जरूरत होती थी ! मुख्य दुकानों में जनरेटर का कनेक्शन लिया गया था ! एक आना एक बल्ब जलाने के लिए दिये जाते थे ! उनदिनों दुमका में एक ही “ज्ञानदा सिनेमा हॉल” था ! वहाँ पर भी जनरेटर चलाए जाते थे ! ऊँच्च पधाधिकारियों के दफ्तर में हाथ वाले पंखा डोलाया जाता था ! दूर एक चपरासी एक लम्बी डोर को खींचता रहता था और छत पर टंगा एक विशाल पंखा हिलता रहता था ! पर एक बात तो थी कि दुमका जंगलों से घिरा था और यहाँ की हवा में ठंठक रहती थी ! मौसम सुहाना लगता था ! शाम होते- होते चिडिओं की चहचाहट की आवाजें और आदिवासी महिलाओं के मधुर गीतों से सारा प्राकृतिक झूम उठता था ! कहीं शोर नहीं और ना प्रदूषण था !
हरेक मुहल्ले में नगरपालिका की ओर से एक पेट्रोमेक्स जलाए जाते थे ! और उसे लकड़ी के पोल पर लटकाए जाते थे ! शुक्ल पक्ष में यह नहीं जलाए जाते थे ! सिर्फ दो घंटे अँधेरीया रात में ही जलाए जाते थे ! लोगों के घर डिबिया ,दीपक और लालटर्न ही जलाते थे ! संध्याकाल में सब के सब अपने हमउम्र वालों के साथ मिलते , खेलते ,गाते और मौज मानते थे ! बड़े बुजुर्ग खगोलीय ज्ञान देते! रात में दिशा का ज्ञान देते थे और तारों की परिभाषा और उनके नामों को बताते थे !
हम नगर के तमाम लोगों को जानते और पहचानते थे ! डाकिया अपने क्षेत्र के लोगों का नाम जानते थे ! भूले हुये अतिथिओं को उनके मंज़िल तक बच्चे -बच्चे तक पहुँचा देते थे !
आज दुमका विजिलिओं से जगमगा रहा है ! हम प्रगति के शिखर पर पहुँचते जा रहे हैं पर अपनों से दूर होते जा रहे हैं !
=================
डॉ लक्ष्मण झा” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
07.08.2023

Language: Hindi
176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
सारा दिन गुजर जाता है खुद को समेटने में,
शेखर सिंह
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
सबक
सबक
manjula chauhan
अम्बे तेरा दर्शन
अम्बे तेरा दर्शन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"कमाल"
Dr. Kishan tandon kranti
यह तुम्हारी गलतफहमी है
यह तुम्हारी गलतफहमी है
gurudeenverma198
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
Indu Singh
🌹हार कर भी जीत 🌹
🌹हार कर भी जीत 🌹
Dr Shweta sood
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
मजदूर दिवस पर विशेष
मजदूर दिवस पर विशेष
Harminder Kaur
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
मनभावन होली
मनभावन होली
Anamika Tiwari 'annpurna '
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
फटा ब्लाउज ....लघु कथा
sushil sarna
बदमिजाज सी शाम हो चली है,
बदमिजाज सी शाम हो चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
एहसास हो ऐसा
एहसास हो ऐसा
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
*वीरस्य भूषणम् *
*वीरस्य भूषणम् *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
Monika Arora
Loading...