Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

15, दुनिया

‌‌‌ख्यालों की दुनिया…
ख्वाबों की दुनिया,
कितनी हसीन है ये दुनिया।
ना किसी के आने का इंतजार…
ना किसी के जाने का गम,
कितनी रंगीन है ये दुनिया।
गमज़दा रहे गर रंजों- गम से,
फिर भी खुशियों की महफ़िल सजाती ये दुनिया।
कागजी फूलों से खुशबू का अहसास करवा…
यथार्थ को भी झुठलाती ये दुनिया।
बिन बारिश के भी भिगो कर…
नामुमकिन को मुमकिन बनाती ये दुनिया।
अजीब ये ख्यालों, ख्वाबों की दुनियां…
कि गम में भी मुस्कुराहट देकर …
‘मधु’ सुकून देती ये दुनिया।।

1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Shweta sood
View all
You may also like:
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
जब तुमने वक्त चाहा हम गवाते चले गये
Rituraj shivem verma
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हाथों की लकीरों तक
हाथों की लकीरों तक
Dr fauzia Naseem shad
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मान बुजुर्गों की भी बातें
मान बुजुर्गों की भी बातें
Chunnu Lal Gupta
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य जब तक
सत्य जब तक
Shweta Soni
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
sushil yadav
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
Loading...