Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दीपावली

दीप जलाओ द्वार सजाओ खुशी मनाओ मिल कर आज ।
आई दिवाली लाई खुशहाली दीप जलेंगे हर घर आज ॥
हर घर द्वार सजे रंगोली स्वागत आपका मेरे द्वार ।
मिल जुल कर सब खुशी मनाए सरहद तक फैला दे प्यार ॥
हरेक दिया है मेरा समर्पित आज देश के उस रक्षक को ।
जिसके बल पर मना रहा हूँ मै दिवाली अपने घर पर

243 Views
You may also like:
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
"अशांत" शेखर
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
अनोखी सीख
DESH RAJ
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
प्यार का अलख
DESH RAJ
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Waqt
ananya rai parashar
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H. Amin
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
Loading...