Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

दिल पर किसी का जोर नहीं होता,

दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल टूट जाए तो शोर नहीं,
हिंदुस्तान का हर नेता चोर होता है
लोग कितने भी शेर सुनाएं,
दिल बोर नहीं होता। ✍️ श्लोक “उमंग” ✍️

2 Likes · 2 Comments · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साथी है अब वेदना,
साथी है अब वेदना,
sushil sarna
"आँखें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
वक़्त के वो निशाँ है
वक़्त के वो निशाँ है
Atul "Krishn"
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
Phool gufran
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-487💐
💐प्रेम कौतुक-487💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
Loading...