Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग

दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
ना जाने क्यूँ …….
.बातों के तीर मारने वाले होते है लोग
कौन समझाये उन्हें…..इससे उनको
कभी सच्ची खुशी नहीं मिलेगी
इन बातों से उनकी जिंदगी
कभी खूबसूरत नहीं बनेगी
कभी अच्छी नहीं बनेगी
खुशी चाहिए…
खूबसूरती चाहिए
अच्छाई चाहिए
तो करो खूबसूरत बाते
अच्छी बाते
प्यारी बाते
ऐसी बाते जो
किसी रोते हुए को हंसा दे
किसी बीमार को शिफा दे
किसी गिरते को उठा दे
किसी के दिल को जगमगा दे…..
अपने दो लफ्जों से सारा
जहाँ महका दे

इसी से जिंदगी बेहतर बनेगी
खुशी खुद तुम्हारे दर की रौनक बनेगी
तुम ऐसी बाते क्यूँ नहीं करते जो
दिलों को दिलों से मिला दे
खुशियाँ और सुकून फैला दे
अच्छी बाते होगी
तो जिंदगी अच्छी होगी
घर मे बरकत होगी
खुदा भी खुश होगा
मेहरबान होगा…….
सारे मौसम गुलाब होंगे
मुकम्मल सारे ख्वाब होंगे…….shabinaZ

210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
Manu Vashistha
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
बेकसूरों को ही, क्यों मिलती सजा है
बेकसूरों को ही, क्यों मिलती सजा है
gurudeenverma198
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
Rj Anand Prajapati
"स्वप्न".........
Kailash singh
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
umesh mehra
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
*छोड़ें मोबाइल जरा, तन को दें विश्राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
Loading...