Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं

दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
सब कुछ जला दिया,
पर जला कुछ ही नहीं

तुम्हें खोकर सब कुछ खो दिया
अब खोने को कुछ बचा ही नहीं

खत लिखा है तुम्हारे‌ लिए
क्या लिखूँ कुछ बचा ही नहीं

चुप हूँ कि तमाशा न हो
तमाशें के लिए कुछ बचा ही नहीं

न जाने कब खत्म होगा ये सिलसिला
जिने के लिए अब कुछ बचा ही नहीं।

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
एक अजीब कशिश तेरे रुखसार पर ।
Phool gufran
2929.*पूर्णिका*
2929.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
gurudeenverma198
दिल पागल, आँखें दीवानी
दिल पागल, आँखें दीवानी
Pratibha Pandey
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
पूर्वार्थ
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
यायावर
यायावर
Satish Srijan
विरह वेदना फूल तितली
विरह वेदना फूल तितली
SATPAL CHAUHAN
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
मैं नहीं मधु का उपासक
मैं नहीं मधु का उपासक
नवीन जोशी 'नवल'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*प्रणय प्रभात*
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जन्म मरण न जीवन है।
जन्म मरण न जीवन है।
Rj Anand Prajapati
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
Loading...