Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

दहेज…. हमारी जरूरत

शीर्षक – दहेज
************
दहेज आज आधुनिक हो गया है।
न मांग न कोई अपना व्यवहार हैं।
बस दहेज़ अब हमारी खुद की सोच हैं।
बेटा बेटी ही अपने जरुरत के साथ हैं।
हां दहेज में अब धन मोह माया खूब हैं।
न सोच न समझ केवल स्वार्थ रहता हैं।
आज दहेज हमारे खुद की जिंदगी हैं।
हां आज न हम माता पिता की सोच हैं।
बस हम युवाओं की दहेज जरुरत हैं।
सच तो हम स्वयं ही हमारी सोच है।
दहेज आज एक फैशन बन चुका हैं।
आज हमारे स्वयं की दहेज जरुरत हैं।
परिवार के साथ न अब हमारी सोच हैं।
अब हमारी आधुनिक समय की बात हैं।
सच तो अब दहेज ही एक स्वार्थ बना हैं।
**************************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
शेखर सिंह
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
𑒫𑒱𑒬𑓂𑒫𑒏 𑒮𑒧𑒮𑓂𑒞 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒏𑒹𑒿 𑒯𑒧 𑒮𑒧𑓂𑒧𑒰𑒢 𑒠𑒻𑒞 𑒕𑒲 𑒂 𑒮𑒲𑒐𑒥𑒰 𑒏 𑒔𑒹𑒭𑓂𑒙𑒰 𑒮𑒯𑒼
𑒫𑒱𑒬𑓂𑒫𑒏 𑒮𑒧𑒮𑓂𑒞 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒏𑒹𑒿 𑒯𑒧 𑒮𑒧𑓂𑒧𑒰𑒢 𑒠𑒻𑒞 𑒕𑒲 𑒂 𑒮𑒲𑒐𑒥𑒰 𑒏 𑒔𑒹𑒭𑓂𑒙𑒰 𑒮𑒯𑒼
DrLakshman Jha Parimal
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
3272.*पूर्णिका*
3272.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*प्रणय प्रभात*
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
Santosh kumar Miri
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
बहुत गहरी थी रात
बहुत गहरी थी रात
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
VINOD CHAUHAN
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
We Mature With
We Mature With
पूर्वार्थ
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हँस रहे थे कल तलक जो...
हँस रहे थे कल तलक जो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
Loading...