Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

“दस्तूर”

“दस्तूर”
पता नहीं ये कैसा दस्तूर है
खोई हुई चीज अक्सर
खूबसूरत लगने लगती है
जैसे वक्त और बचपन।

2 Likes · 2 Comments · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिसकियाँ
सिसकियाँ
Dr. Kishan tandon kranti
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उदास हूं मैं आज...?
उदास हूं मैं आज...?
Sonit Parjapati
■ आज का सवाल
■ आज का सवाल
*प्रणय प्रभात*
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
दुख
दुख
Rekha Drolia
"आतिशे-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
नहीं मिलना हो जो..नहीं मिलता
Shweta Soni
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिसके हर खेल निराले हैं
जिसके हर खेल निराले हैं
Monika Arora
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
तुम और तुम्हारा झुमका-एक विमर्श
तुम और तुम्हारा झुमका-एक विमर्श
Awadhesh Singh
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
Loading...