Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

*दशरथ (कुंडलिया)*

दशरथ (कुंडलिया)

पाए दशरथ ने मधुर, पुण्यों के फल राम
नृप रघु के कुल में हुए, नगर अयोध्या धाम
नगर अयोध्या धाम, राम ऑंगन में खेले
दशरथ धन्य महान, लगे खुशियों के मेले
कहते रवि कविराय, देह ने प्राण गॅंवाए
दुर्लभ पिता प्रणाम, राम ने दशरथ पाए

रचयिता रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश मोबाइल 99976 15451

99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं सोच रही थी...!!
मैं सोच रही थी...!!
Rachana
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
Rituraj shivem verma
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
😊लघु-कथा :--
😊लघु-कथा :--
*प्रणय प्रभात*
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
The unknown road.
The unknown road.
Manisha Manjari
मार्तंड वर्मा का इतिहास
मार्तंड वर्मा का इतिहास
Ajay Shekhavat
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
kavita
kavita
Rambali Mishra
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...