Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l

दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
फर्क करते करते मंदिर की पूजा और नमाज़ मेंl
किस किस को इलज़ाम देती ,अपनी दर्द-ए-तन्हाई का ,l
दब गई ख़ामोशी, मेरे अपनों की आवाज में ll
अब तक गूंज रहे है दिल मैं मेरे, वो छलनी कर गए,l
क्या धार थी तेरे उन अल्फाज़ मैं ll
गुनाहगार तुम भी उतने ही हो, गुनाह मैं कत्ल कर,
फिर,शामिल हुए,”रत्न” के अरमानो के ज़नाजे मैं ll
बदल सकती थी,ये किस्सा-ए-तन्हाई,तन्नुम-ए-महफ़िल मैं,
मौज़ूद थे पर, वो राग न निकले तेरे साज से ll
गुप्तरत्न

257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
बुद्ध को है नमन
बुद्ध को है नमन
Buddha Prakash
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
*दादा जी डगमग चलते हैं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Nupur Pathak
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
'Memories some sweet and some sour..'
'Memories some sweet and some sour..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
Anil Mishra Prahari
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
*Author प्रणय प्रभात*
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...