Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

“तेरे इश्क़ में”

“तेरे इश्क़ में”
शमा जो तेरे कमरे में जलती है,
सारी रात तेरे इश्क़ में पिघलती है।

7 Likes · 5 Comments · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
LIFE has many different chapters. One bad chapter does not m
आकांक्षा राय
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🙅बदली कहावत🙅
🙅बदली कहावत🙅
*Author प्रणय प्रभात*
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
आप सभी सनातनी और गैर सनातनी भाईयों और दोस्तों को सपरिवार भगव
SPK Sachin Lodhi
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ਦਿਲ  ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ  ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
ਦਿਲ ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
Surinder blackpen
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-209💐
💐प्रेम कौतुक-209💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
मेरे अल्फ़ाज़ मायने रखते
Dr fauzia Naseem shad
जालिम
जालिम
Satish Srijan
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...