Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

तू प्रतीक है समृद्धि की

तू प्रतीक है समृद्धि की,
तू लक्ष्मी जो है,
होता है तेरा वास वहाँ,
जहाँ होते हैं स्वर्ण से भरें कुंभ,
मुद्राओं से भरी होती है कोठियां,
तू वहीं रहना पसन्द करती है,
जहाँ बसते हैं अमीर लोग,
वहीं नजर आती है खुश तू ,
क्योंकि वो ही कर सकते हैं,
तेरी मेहमान नवाजी अच्छी तरह,
अपनी स्वर्ण थाली में दीप जलाकर।

तू प्रतीक है समृद्धि की,
तू लक्ष्मी जो है,
मैं और मेरे जैसे,
जिनको नसीब नहीं है ,
एक वक्त की रोटी भी,
और जिनके पास नहीं है,
एक टूटी छत भी,
अपना सिर छुपाने को,
नहीं है जिनके पास,
एक फटा-पुराना कपड़ा भी,
अपनी इज्जत और तन बचाने को,
क्या तुमको पसन्द है,
ये मलिन और दुर्गंध वाली सूरतें।

तू प्रतीक है समृद्धि की,
तू लक्ष्मी जो है,
तू विशाल स्वर्ण जड़ित प्रतिमा है,
जबकि हम सक्षम नहीं है,
भार अपना उठाने को,
तेरा क्या बोझ उठा पायेंगे,
खुश है हम अपने ऐसे जीवन में,
जिसमें नहीं है कोई महत्त्वकांक्षा,
अनन्त इच्छाओं के सपनें,
आबाद है हम अपनी इस बस्ती में,
जहाँ नहीं है भेद गरीबी में,
और सोते हैं चैन से हम,
बिना भविष्य की चिंता के।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
अनकहा
अनकहा
Madhu Shah
February 14th – a Black Day etched in our collective memory,
February 14th – a Black Day etched in our collective memory,
पूर्वार्थ
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
"परचम"
Dr. Kishan tandon kranti
2529.पूर्णिका
2529.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
मुझसे जुदा होने से पहले, लौटा दे मेरा प्यार वह मुझको
gurudeenverma198
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
साथ मेरे था
साथ मेरे था
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"कामदा: जीवन की धारा" _____________.
Mukta Rashmi
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
surenderpal vaidya
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
■ निर्णय आपका...
■ निर्णय आपका...
*प्रणय प्रभात*
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
Loading...