Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2017 · 1 min read

“तुम, मुझे याद करके देखना”

बिछड़ी हुई गलियों से, आज फिर गुजर के देखना।
तन्हा ना कहोगे खुदको,आज फिर संवर के देखना।।
हर कदम निशा मिलेंगे मेरे,नज़र साद करके देखना।
पास पाओगे मुझे, ख़ुदा से फरियाद करके देखना।।
तस्वीर मेरी लेकर तुम, बंद कमरे में बैठ जाना।
तस्वीर बात करेगी तुमसे, तुम बात करके देखना।।
रूठते थे हमसे तुम कभी, मनाते थे हम कभी।
आज मनाएगी तस्वीर तुम्हें, तुम रूठ करके देखना।।
खो जाओगे ख्यालो में तुम, तभी हम दस्तक देंगे।
दिल में पाओगे हमें, तुम दिल बेकरार करके
देखना।।
तमाम अधूरे किस्से, बन जाएँगे याद के हिस्से।
बस एक बार तुम, मुझे, याद कर के देखना।।
रचियता
संतोष बरमैया”जय”
09923361761,08889245672

720 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
Abhishek Kumar Singh
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Harekrishna Sahu
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
Neelam Sharma
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
"आदि नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम दिवानी
प्रेम दिवानी
Pratibha Pandey
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
23/195. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/195. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...