Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2024 · 1 min read

*तुम अगर साथ होते*

तुम अगर साथ होते
जीवन की हर कठिन राह आसान हो जाती,
यूं न उलझते हर काम सुलझ जाते।
खुशी की सीमा न रह जाती,
दुखी होकर भी गम हल्का कर जाते।
मन की बात कहके हाल अपना सुना जाते,
कभी भींगी पलकों से आंखो को झुका देते,
कभी खुश होके मीठा दर्द छुपा लेते।
दूर रहकर अजनबी की तरह से साझा करते,
कभी पास आकर गले से लगा जाते।
तन्हा दिल क्या करे अपनी किसे सुनाते,
कैसे गुजरे दिन और रातें कैसी चंद मुलाकातें,
नहीं होती कभी बातें न नजरें मिल पाते।
तुम अगर साथ होते तो वादे पूरे कर जाते।
कैसी कितनी बार हम यादों में खो जाते,
कभी खुश हो कभी आंखों से नीर बहाते।
दूर रहकर भी एहसास यही वजह बन जाते,
समझा कर मन को यूं ही समय बिता देते।
काश ऐसा हो तुम अगर साथ हमारे होते,
कुछ हम कहते सुनते कुछ अपनी सुना जाते।
तुम अगर साथ होते
सब संभव हो खुशियों का पैगाम ले आते।
तुम अगर साथ होते तो वादे पूरे हो जाते
तुम अगर साथ होते तो हर कदम आगे बढ़ते जाते
मंजिल करीब हो जाती सफर तय करते ही जाते।
तुम अगर साथ होते
शशिकला व्यास शिल्पी ✍️

1 Comment · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विनती
विनती
Dr. Upasana Pandey
पिता संघर्ष की मूरत
पिता संघर्ष की मूरत
Rajni kapoor
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
सत्य कुमार प्रेमी
■ कड़ा सवाल ■
■ कड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
बुंदेली दोहा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
व्यक्तित्व की दुर्बलता
व्यक्तित्व की दुर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
रामभक्त हनुमान
रामभक्त हनुमान
Seema gupta,Alwar
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
पूर्वार्थ
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब बूढ़ी हो जाये काया
जब बूढ़ी हो जाये काया
Mamta Rani
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम एक अध्यात्म नदी – पाँच दृश्य
प्रेम एक अध्यात्म नदी – पाँच दृश्य
Awadhesh Singh
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
Loading...