Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2024 · 1 min read

तुम्हारे दीदार की तमन्ना

ग़ज़ल
तुम्हारे दीदार की तमन्ना में साँस कुछ कुछ तो चल रही है
जो तुम मुहब्बत की शम’अ दिल में जला गये थे तो जल रही है

बनी है सीलन इन आँसुओं की जमी हुई है ग़मों की काई
लबों की चौखट तक आते आते हँसी हमारी फिसल रही है

जमी हुई बर्फ़ ग़म की दिल की जो वादियों में कई दिनों से
मिली जो हमदर्दी की हरारत¹ तो अश्क बन कर पिघल रही है

खड़े हैं सफ़² में सलौने सपने बड़े अदब से ये हाथ बाँधे
है बे-मुरव्वत ये नींद मेरी यहाँ वहाँ क्यों टहल रही है

हुआ है जख़्मी ये जिस्म मेरा बहुत हुआ दाग़दार दामन
‘अनीस’ मुँह फेर लो उधर तुम ये रूह कपड़े बदल रही है
– अनीस शाह ‘अनीस ‘
1.गर्मी 2.पंक्ति

Language: Hindi
1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/197. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/197. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
"तलबगार"
Dr. Kishan tandon kranti
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
अफसाना किसी का
अफसाना किसी का
surenderpal vaidya
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
😢स्मृति शेष / संस्मरण
😢स्मृति शेष / संस्मरण
*प्रणय प्रभात*
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
मन की संवेदना
मन की संवेदना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...