Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

तुमने – दीपक नीलपदम्

मेरे मन के शांत जलाशय से,
ओ! वन की स्वच्छंद चँचल हिरनी
तूने नीर-पान करके-
शांत सरोवर के जल में
ये कैसी उथल-पुथल कर दी।
मैं शांत रहा हूँ सदियों से,
यूँ ही एकांत का वासी हूँ,
मैं देश छोड़ कर दूर वसा,
मैं तो एक अप्रवासी हूँ।
मेरे एकांतवास को भंग किया,
तुमने अपना परिचय देकर,
मेरे शांत अप्रवास को तोड़ने की
तुमने आज पहल कर दी;
शांत सरोवर के जल में
ये कैसी उथल-पुथल कर दी।
कोई फल पाने की वाञ्छा से
तप, योग, साधना में रत था,
संसार निरर्थक लगता था,
हर एक कामना से विरत था।
तुम वरदान हमारे तप का हो,
शायद ये ही फल चाहा था;
तप मेरा टूट गया अब तो,
मैंने तेरी कामना है कर ली;
शांत सरोवर के जल में
ये कैसी उथल-पुथल कर दी।
तुम कनक-हरिन की भांति दिखे,
आखेट को मैं राघव सा चला,
पर तुम माया थे मन्मथ के,
इस रहस्य से मैं अन्जान रहा;
मैं रोक सका न निज मन को,
मेरे मन के राघव की-
सीता को छल, तू चल दी;
शांत सरोवर के जल में
ये कैसी उथल-पुथल कर दी।
तुम कुसुम सरोज सरोवर के,
मैं भोला मधुप हूँ बेचारा,
तुम कारागार बने मेरी,
तेरे कर्षण में मैं गया मारा;
ये रंज नहीं, अब अजीवित हूँ,
अभिमान मुझे अब इसका है,
कि तेरे यौवन-रस की गगरी भी,
मैंने पराग से, ख़ाली कर दी;
शांत सरोवर के जल में
ये कैसी उथल-पुथल कर दी।

(c)@ दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

1 Like · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
शाम
शाम
N manglam
*लक्ष्मण-रेखा (कुंडलिया)*
*लक्ष्मण-रेखा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
गुमनाम 'बाबा'
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
तन प्रसन्न - व्यायाम से
तन प्रसन्न - व्यायाम से
Sanjay ' शून्य'
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी प्यारी सासू मां, मैं बहुत खुशनसीब हूं, जो मैंने मां के
मेरी प्यारी सासू मां, मैं बहुत खुशनसीब हूं, जो मैंने मां के
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
"बेहतर यही"
Dr. Kishan tandon kranti
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
शायरी
शायरी
Sandeep Thakur
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...