Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

तुझे पाने की तलाश में…!

तुझे पाने की तलाश में, दर–दर भटक रहा हूं
मिट्टी में हुआ पैदा, मिट्टी में मिल रहा हूं

तलवों में जो छाले पड़ते, जलती सी इस रेत में
राहत पाने को जा बैठे, यादों के उस खेत में

हरी–भरी सुधियों की फसलें,राहत देते पीले फूल
परछाईं तेरी ले–लेकर, आंखों में जो भर रहा हूं

तुझे पाने की…………

यादों की जलती हैं अलाव, सर्द हवा में आंच उठाव
बंजर धरती, झुलसे पौधे, बिखरे कांटों का फैलाव

एक परिंदा सा मैं बनकर, बादलों संग उड़ रहा हूं
ऋतुएं मेरे पीछे–पीछे, ऋतुओं से मैं भाग रहा हूं

तुझे पाने की…………..

पर्वत जो ये मौन खड़ा है, नदिया कल–कल बहती है
लाखों–हजारों देख के मंजर, सागर में जा मिलती है

बूंद–बूंद का मैं हूं प्यासा, पूरी न होती जो अभिलाषा
मन की इच्छाओं ने जकड़ा, मन ही मन मैं तड़प रहा हूं
तुझे पाने की………….

–कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह
*ये मेरी स्वरचित रचना है
* ©सर्वाधिकार सुरक्षित

1 Like · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने
अपने
Adha Deshwal
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
सरकारी नौकरी लगने की चाहत ने हमे ऐसा घेरा है
पूर्वार्थ
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
"सृष्टि निहित माँ शब्द में,
*Author प्रणय प्रभात*
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
चैन से रहने का हमें
चैन से रहने का हमें
शेखर सिंह
धनतेरस
धनतेरस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
Loading...