Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“तारीफ़”

“तारीफ़”
तारीफ़ उसकी करो
जो वाकई काबिले-तारीफ़ हों,
वरना बेहतर है
मौन रहके रास्ते से गुजर जा.

1 Like · 1 Comment · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
बिखरा
बिखरा
Dr.Pratibha Prakash
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
3463🌷 *पूर्णिका* 🌷
3463🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
सबको
सबको
Rajesh vyas
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
😜 बचपन की याद 😜
😜 बचपन की याद 😜
*प्रणय प्रभात*
जीना सीख लिया
जीना सीख लिया
Anju ( Ojhal )
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
Jogendar singh
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
नारी भाव
नारी भाव
Dr. Vaishali Verma
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
डॉ.सीमा अग्रवाल
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"पता सही होता तो"
Dr. Kishan tandon kranti
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
Loading...