Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2021 · 1 min read

तस्वीर

दिखती है जो बात तस्वीर में ,
पर नज़ारा तो कुछ और है ।
अदाएं कुछ ,अंदाज़े -बयां कुछ ,
सारा फ़साना कुछ और है ।
तस्वीर तो एक ही है मगर,
इसके पहलु कुछ और है।
शक्ल में ,और सीरत में ,
छुपे राज़ कुछ और है।
दुनियां जो देखती है ,वोह
मुझे जो दिखता कुछ और है।
है कोई बात इस तस्वीर में ज़रूर ,
मेरा नजरिया कहता कुछ और है।
कैसे दिखायुं मैं इसका असली रूप ,
हरपल रंग बदलता ऐसा इसका रुख है।

7 Likes · 6 Comments · 387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
VINOD CHAUHAN
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
*होली: कुछ दोहे*
*होली: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
हर दिल में प्यार है
हर दिल में प्यार है
Surinder blackpen
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
Ranjeet kumar patre
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खास होने का भ्रम ना पाले
खास होने का भ्रम ना पाले
पूर्वार्थ
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"अवसाद का रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं हमेशा के लिए भूल जाना चाहता हूँ कि
मैं हमेशा के लिए भूल जाना चाहता हूँ कि "कल क्या था।"
*प्रणय प्रभात*
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
🌸 आशा का दीप 🌸
🌸 आशा का दीप 🌸
Mahima shukla
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
जिंदगी और जीवन में अपना बनाएं.....
Neeraj Agarwal
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...