Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

तलाश है।

अंधेरों में भी,
उजालों की तलाश है।
डुबते हुए इंसान को,
तिनके की आश है।
अंधेरों में भी . . . . . .
पल पल मौत को,
करीब आते हुए देखा है।
जीने की तमन्ना में,
मौत से लड़ना भी सीखा है।
मौत अटल है,
हाथों की लकीरों में लिखा है।
किसी को हारते,
किसी को जीतते हुए देखा है।
मौत में भी,
जीवन की प्यास है।
अंधेरों में भी . . . . . .
लाख हार हो,
पर जीत अपना ही मानकर चलें।
जीवन का सूरज,
समय से पहले न ढ़ले।
सपनों को संजोए,
सपने मन आंखों में पले।
काम कर जाओ ऐसा,
मरने के बाद आत्मा को न खले।
करो संकल्प,
जीवन में भी मौत का अट्टहास है।
अंधेरों में भी . . . . . .

Language: Hindi
2 Likes · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
spam
spam
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
दुश्मनों से नहीं दोस्तों से ख़तरा है
दुश्मनों से नहीं दोस्तों से ख़तरा है
Manoj Mahato
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
जगदीश शर्मा सहज
सत्य असत्य से हारा नहीं है
सत्य असत्य से हारा नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
** हद हो गई  तेरे इंकार की **
** हद हो गई तेरे इंकार की **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3533.🌷 *पूर्णिका*🌷
3533.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
*एक शेर*
*एक शेर*
Ravi Prakash
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
गुमनाम 'बाबा'
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
बेज़ुबान जीवों पर
बेज़ुबान जीवों पर
*प्रणय प्रभात*
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...