Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“तरबूज”

“तरबूज”
गर बुझ सको तो बुझ
खाकर बनो मजबूत
आता है यह गर्मी में
बढ़ाता है सूझ-बूझ
ज्यादा कुछ न पूछ।

1 Like · 1 Comment · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
आइये झांकते हैं कुछ अतीत में
Atul "Krishn"
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
*श्री सुंदरलाल जी ( लघु महाकाव्य)*
Ravi Prakash
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Pain of separation
Pain of separation
Bidyadhar Mantry
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
Mukul Koushik
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
"पनाहों में"
Dr. Kishan tandon kranti
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
"मुग़ालतों के मुकुट"
*Author प्रणय प्रभात*
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
Loading...