Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

“तब कोई बात है”

“तब कोई बात है”
जिन्दगी हसीन मिले
जीने के लिए,
लम्बी जिन्दगियाँ तो
अक्सर कट जाया करती हैं..

8 Likes · 5 Comments · 123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
भाग्य और पुरुषार्थ
भाग्य और पुरुषार्थ
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
Leena Anand
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
मेरी मायूस सी
मेरी मायूस सी
Dr fauzia Naseem shad
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
शेखर सिंह
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
जिंदगी रूठ गयी
जिंदगी रूठ गयी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! " ***
VEDANTA PATEL
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
■ आज नहीं अभी 😊😊
■ आज नहीं अभी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
अंसार एटवी
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...