Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स

ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स्थान और भगौलिक दशाओं की जानकारी होती है।
RJ Anand Prajapati

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
चुका न पाएगा कभी,
चुका न पाएगा कभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
बचपन का मौसम
बचपन का मौसम
Meera Thakur
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
इंद्रधनुष सा यह जीवन अपना,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
राज़-ए-इश्क़ कहाँ छुपाया जाता है
राज़-ए-इश्क़ कहाँ छुपाया जाता है
शेखर सिंह
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
Neerja Sharma
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
😢4
😢4
*प्रणय प्रभात*
Loading...