Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2017 · 1 min read

” डूबी हूँ , तेरे ख्यालों में ” !!

मुंडेरों से धूप उतरी ,
लहरा गई !
रुख़सार को ठंडी हवा ,
सिहरा गई !
टिकटिकाती घड़ी ठहरी –
उलझे से सवालों में !!

कद घटा दिनों का ,
छोटे हुए !
सिसकती रातें घनेरी ,
सिमटे हुए !
चाँद मद्धम,स्वप्न ठिठुरे –
रोज़ के बवालों में !!

उम्मीदों पर हिमपात ,
जैसे हुआ !
चाहकर यों अनदेखा ,
तुमने किया !
अब रेशमी रिश्ते सहेजूँ –
चाहत के उजालों में !!

Language: Hindi
Tag: गीत
796 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
■ आज का विचार।।
■ आज का विचार।।
*Author प्रणय प्रभात*
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
Er. Sanjay Shrivastava
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
Ravi Prakash
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हॉं और ना
हॉं और ना
Dr. Kishan tandon kranti
कागजी फूलों से
कागजी फूलों से
Satish Srijan
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
एक मुस्कान के साथ फूल ले आते हो तुम,
एक मुस्कान के साथ फूल ले आते हो तुम,
Kanchan Alok Malu
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
SURYA PRAKASH SHARMA
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
Loading...