Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2022 · 1 min read

ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।

ज़िन्दगी ने राहों को हीं, मंज़िल बना दिया,
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
जुड़े थे कभी शाख़ से, ज़मीं ने बुला लिया।
आँधियों ने ज़मीं को भी, अपना ना बनने दिया,
घर ढूंढने की आस में, बेघर बना दिया।
सूरज की तपिश ने, इम्तिहान ऐसा लिया,
जलते कोयलों ने भी, हँसकर सर को झुका लिया।
बाऱिशों ने छुआ ऐसे की, साहिल से जुदा किया,
चले एक बूँद बन नदियों संग, उसने समंदर किया।
आसमाँ ने मेरे चाँद को, रातों से अगवा किया,
गर्दिशों में मेरे अस्तित्व को, तारों ने रौशन किया।
कोहरे की ओट में, सुबहों ने सपनों को चुरा लिया,
ओस की बूँद ने पलकों पर, नए रंगों को चढ़ा दिया।
धनी व्यक्तित्व के थे, हर कारवाँ ने शामिल किया,
पर सोच की स्याही ने, सेहरा में भी तन्हा किया।
नक़ाब हमने भी चेहरे पे, ऐसा लगा लिया,
मुस्कराहट को ज़िंदगी का, फ़लसफ़ा बना दिया।

9 Likes · 12 Comments · 284 Views
You may also like:
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
मुझको क्या मतलब तुमसे
gurudeenverma198
ग़ज़ल
Rashmi Sanjay
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज आदमी क्या क्या भूल गया है
Ram Krishan Rastogi
बरसात
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
नया दौर का नया प्यार
shabina. Naaz
विचार
मनोज शर्मा
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पायल
Dr. Sunita Singh
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
तलाश
Seema 'Tu hai na'
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वास्तव....
'अशांत' शेखर
" रुढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
"तब घर की याद आती है"
Rakesh Bahanwal
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
मंगलमय हो भाई दूज, बहिन बेटियां सुखी रहें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
खूब परोसे प्यार, खिलाये रोटी माँ ही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनोखी सीख
DESH RAJ
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
बाल दिवस पर विशेष
Vindhya Prakash Mishra
Loading...