Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

टूटी हुई कलम को

टूटी हुई कलम को
त्रुटि लिए शब्दों को
अशुद्ध व्याकरण को
बिखरे मन के भाव को
मत रौंदना कभी टुटे फूटे काव्य को
यही इतिहास की सच्ची गवाही है
बाकी हमने राज्यों की चाटुकारिता पाई है
पूँजी वाद, पद, सम्मान की करी बडाई है
इतिहास की नीव टूटी कलम से बच पाई है
हा हा मत रोको इन कलम को
टूटी, त्रुटि, अशुद्ध ही सही
इतिहास की नीव तो दिखाई है

अनिल चौबिसा
9829246588

1 Like · 463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
Dr. Seema Varma
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी  किसी के साथ प्रेम ,  किस
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी किसी के साथ प्रेम , किस
Seema Verma
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
उड़ कर बहुत उड़े
उड़ कर बहुत उड़े
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
ऐ जिंदगी तू कब तक?
ऐ जिंदगी तू कब तक?
Taj Mohammad
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
"पुरानी तस्वीरें"
Lohit Tamta
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-482💐
💐प्रेम कौतुक-482💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शाश्वत सत्य
शाश्वत सत्य
Dr.Pratibha Prakash
अविकसित अपनी सोच को
अविकसित अपनी सोच को
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मूर्दों की बस्ती
मूर्दों की बस्ती
Shekhar Chandra Mitra
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...