Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

*झूल रहा है टॉमी झूला( बाल कविता )*

झूल रहा है टॉमी झूला( बाल कविता )
—————————————-
झूल रहा है टॉमी झूला
बच्चों जैसा हँसकर फूला

कहता है हम भी तो बच्चे
कुत्ते हैं ,पर मन के सच्चे

अगर पार्क में मालिक ! आओ
हमको भी तो संग खिलाओ

छोटा भाई समझ बुला लो
जब तुम झूलो ,हमें झुला लो
●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
* लोकतंत्र महान है *
* लोकतंत्र महान है *
surenderpal vaidya
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
कवि रमेशराज
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
एक दिन उसने यूं ही
एक दिन उसने यूं ही
Rachana
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
हमने एक बात सीखी है...... कि साहित्य को समान्य लोगों के बीच
हमने एक बात सीखी है...... कि साहित्य को समान्य लोगों के बीच
DrLakshman Jha Parimal
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
छंद मुक्त कविता : जी करता है
छंद मुक्त कविता : जी करता है
Sushila joshi
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
Loading...