Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2023 · 1 min read

*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*

जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)
—————————————-
1)
जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा
सजा मिलेगी वह ही कॉंटे, जन्म-जन्म तक पाएगा
2)
अच्छे कर्मों से धरती पर, मिलते ईनाम नहीं हैं
अच्छे कर्मों वाला जग में, बुरा सदा कहलाएगा
3)
बुद्धिमान बस वही रहे जो, कुटिल हृदय के स्वामी थे
पद-अधिकार समूचा उनके, कदमों में ही आएगा
4)
बदल गई सब परिभाषाऍं, शोषक वह कहलाता है
दया-दान करने जो पूॅंजी, अपनी निजी लुटाएगा
5)
समय कह रहा है यह लूटो, जेबों को भरना सीखो
जिसका सबल गैंग है वह ही, जग में राज चलाएगा
6)
रखो सदा विश्वास जगत में, कलियुग है क्षण-दो क्षण का
फिर से लेंगे अवतार ईश, सतयुग फिर से छाएगा
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
उमेश बैरवा
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
𝕾...✍🏻
𝕾...✍🏻
पूर्वार्थ
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
Ravi Prakash
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
शेखर सिंह
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
हारिये न हिम्मत तब तक....
हारिये न हिम्मत तब तक....
कृष्ण मलिक अम्बाला
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
व्योम को
व्योम को
sushil sarna
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
करनी होगी जंग
करनी होगी जंग
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...