Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

जो कहा तूने नहीं

प्यार इस हद तक तुझसे किया है मैंने ।
जो कहा तूने नहीं वो भी सुना है मैंने ।।
देख कर तुझको ही चलती हैं ये सांसें मेरी।
तुझको खुद में बहुत महसूस किया है मैंने ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
कभी तो फिर मिलो
कभी तो फिर मिलो
Davina Amar Thakral
!............!
!............!
शेखर सिंह
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
एक बिहारी सब पर भारी!!!
एक बिहारी सब पर भारी!!!
Dr MusafiR BaithA
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
अंत
अंत
Slok maurya "umang"
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
gurudeenverma198
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
*प्रणय प्रभात*
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
3109.*पूर्णिका*
3109.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
Loading...