Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

जी रही हूँ

#दिनांक :- 5/11/2023
#शीर्षक:-जी रही हूँ

ओह हाय !
बहुत व्यस्त हो गए हो तुम अब तो ,
हाँ जिन्दगी में खुशहाल जो हो ,
बीबी, बच्चे,
बहुत सुंदर परिवार बन गया तुम्हारा तो,
अब क्यूँ भला मैं याद आऊँ तुमको ।
तुम गए तो सही पर गये नहीं क्यूँ ?
मुझमे अधूरा रह गए हो क्यूँ ?
जानती हूँ तुम बिना सोचे,
बिना याद किये सो जाते हो ,
पर मेरी आँखे सोती ही नहीं क्पूँ ?
ये कमाल है तेरे इश्क का या दस्तूर है बता दो,
दिल तोड़ने का वजह बता दो,
थोड़ा ही सही अपने आप को तो ले जाते,
याद से बार-बार क्यूँ हो सताते ,
बहुत घुटन, बहुत चुभती दर्द है ,
बिन दवा का ये मर्ज है,
रात का कालापन भयभीत करता ,
सोचती हूँ ये रात ही क्यूँ आता,
अकेली तन्हाई के साथ घुटघुटकर जी रही हूँ ,
तुम्हारे प्यार में दिवालियापन का,
बोझ लिये फिर रही हूँ ।
समस्या ये नहीं कि तुम जान जाओगे,
कोई तुम तक ये संदेश पहुंचा दे,
इस उम्मीद पर जी रही हूँ |

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
पूर्वार्थ
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शब्द सारे ही लौट आए हैं
शब्द सारे ही लौट आए हैं
Ranjana Verma
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
2532.पूर्णिका
2532.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
१.भगवान  श्री कृष्ण  अर्जुन के ही सारथि नही थे वे तो पूरे वि
१.भगवान श्री कृष्ण अर्जुन के ही सारथि नही थे वे तो पूरे वि
Piyush Goel
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मकर संक्रांति पर्व
*मकर संक्रांति पर्व"*
Shashi kala vyas
आओ ...
आओ ...
Dr Manju Saini
मोहन तुम से तुम्हीं हो, ग्रथित अनन्वय श्लेष।
मोहन तुम से तुम्हीं हो, ग्रथित अनन्वय श्लेष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
Ravi Prakash
मां
मां
Monika Verma
मेरे कलाधर
मेरे कलाधर
Dr.Pratibha Prakash
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
जीवन -जीवन होता है
जीवन -जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
"तवा और औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...