Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 2 min read

*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*

शीर्षक – जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले
लेखक – डॉ. अरुण कुमार शास्त्री – पूर्व निदेशक

वह मृत्युभय से, तो भाई सबको डराता है ।
कोई भी अवस्था हो , कोई भी पल हो ।
एक इन्सान इस बात को कहां भूल पाता है।
कभी अपने अनुभव, कभी दूसरों के कष्ट,
देख -देख , स्वप्न में भी मनुष्य डर जाता है ।
वह मृत्युभय से, तो भाई सबको डराता है ।

कहने को कहना पड़ता है अरे वह इंसान कैसा ,
जो चुनौतिया आने पर उनका सामना नहीं करता ।
जीवन में कई विकल्प हैं , उनका प्रयोग नहीं करता।
किसी दी गई स्थिति के लिए , कमजोर पड़ जाता है।

लेकिन एक कठिन स्थिति में यह तो बिलकुल स्पष्ट है।
इसका रोमांच इसका रहस्य ही तो जीवन मकरंद है ।
और यह वास्तव में इस विचार से रोमांचित हो जाता है।
जीवन का सच्चा आनंद तो आश्चर्य में ही मिल पाता है ।

एक अचानक सा पहलू, एक सुंदर अवसर असमंजस का ।
वह मृत्युभय से, तो भाई सबको डराता है ।
मैं आपसे विलग कहां , मैं आपका ही प्रतिरूप हूं ।
मैं जीवन में करो या मरो की स्थितियों का जागता रूप हूं।
ये पहलू आप भिन्न भिन्न परिस्थितियों में पा चुके हैं ।

उस समय आपके निर्णय आपके जीवन मंत्र स्वरूप हैं।
जो जीवन में कभी नहीं हुआ, लेकिन अब हुआ अजब हुआ।
क्योंकि जीवन पहले एक चुनौती है, फिर एहसास है ।
यही जीवन की परिणीति है यही बात बहुत खास है।

पहले सवाल आता है बाद में उत्तर बताता है ईश्वर ऐसे ही सिखाता है ।
पल – पल इसी प्रकार ये एहसास एक अभ्यास तजुर्बा बन जाता है।
वह मृत्युभय से, तो भाई सबको डराता है ।
कोई भी अवस्था हो , कोई भी पल हो ।
एक इन्सान इस बात को कहां भूल पाता है।
कभी अपने अनुभव, कभी दूसरों के कष्ट,
देख -देख , स्वप्न में भी मनुष्य डर जाता है ।

छोटे और आसान रास्ते, भ्रामक होते हैं बहुधा संकट में डाल सकते हैं।
लंबे रास्ते कष्टदायक मगर सजग , पल – पल रोमांच से भरे ।
वो आपको उनकी विविद्यता का दीदार कराना चाहता है ।
दूनिया के अजब अजूबों से आपको मिलवाना चाहता है ।
फिर आश्चर्य मिश्रित कांति का उदीयमान सूर्य प्रकट कर
हर्षित होते देखना चाहता है।

वह मृत्युभय से, तो भाई सबको डराता है ।
कोई भी अवस्था हो , कोई भी पल हो ।
एक इन्सान इस बात को कहां भूल पाता है।
कभी अपने अनुभव, कभी दूसरों के कष्ट,
देख -देख , स्वप्न में भी मनुष्य डर जाता है ।

लेकिन ईश्वर तो पिता समान अपने बच्चे को ऐसे ही सिखाता है।

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
Neelam Sharma
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
अध्यापकों का स्थानांतरण (संस्मरण)
Ravi Prakash
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
Sanjay ' शून्य'
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
चुनना किसी एक को
चुनना किसी एक को
Mangilal 713
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
2268.
2268.
Dr.Khedu Bharti
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
#मेरी_ग़ज़ल
#मेरी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
गुरु दक्षिणा
गुरु दक्षिणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
Mahima shukla
*Broken Chords*
*Broken Chords*
Poonam Matia
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
अहंकार और अधंकार दोनों तब बहुत गहरा हो जाता है जब प्राकृतिक
Rj Anand Prajapati
Loading...