Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

जीवन सहरा सा हुआ,

आज विश्वपर्यावरण दिवस पर

जीवन सहरा सा हुआ, दिखे रेत ही रेत
ऐसी बरसी आग है , सूख गए सब खेत
सूख गए सब खेत , बरस पानी भी जाता
इतना ,उगा अनाज , सड़ाता और बहाता
दिखे अर्चना रोज ,कर्ज का बढ़ता पहरा
खुशियों से हो रीत, हुआ ये जीवन सहरा
डॉ अर्चना गुप्ता

340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-405💐
💐प्रेम कौतुक-405💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
विकास
विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार का मौसम
प्यार का मौसम
Shekhar Chandra Mitra
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वच्छ भारत (लघुकथा)
स्वच्छ भारत (लघुकथा)
Ravi Prakash
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
खुद पर यकीन करके
खुद पर यकीन करके
Dr fauzia Naseem shad
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
द्वितीय ब्रह्मचारिणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
2586.पूर्णिका
2586.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
Loading...