Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

जीवन सहरा सा हुआ,

आज विश्वपर्यावरण दिवस पर

जीवन सहरा सा हुआ, दिखे रेत ही रेत
ऐसी बरसी आग है , सूख गए सब खेत
सूख गए सब खेत , बरस पानी भी जाता
इतना ,उगा अनाज , सड़ाता और बहाता
दिखे अर्चना रोज ,कर्ज का बढ़ता पहरा
खुशियों से हो रीत, हुआ ये जीवन सहरा
डॉ अर्चना गुप्ता

246 Views
You may also like:
उसने कहा था
अंजनीत निज्जर
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
मौसम तो बस बहाना हुआ है
Kaur Surinder
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
*ढका मास्क से राज ( हास्य कुंडलिया )*
Ravi Prakash
तुझ में जो खो गया है वह मंज़र तलाश कर।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
जिंदगी का आखिरी सफर
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेचू
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पीछे जमाना चले ओर आगे गन-धारी दो वीर हो!
Suraj kushwaha
कुछ यादें जीवन के
Anamika Singh
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
पढ़ते कहां किताब का
RAMESH SHARMA
शादी
विनोद सिल्ला
" रब की कलाकृति "
Dr Meenu Poonia
“AUTOCRATIC GESTURE OF GROUP ON FACEBOOK”
DrLakshman Jha Parimal
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
घिसी चप्पल
N.ksahu0007@writer
वो बोली - अलविदा ज़ाना
bhandari lokesh
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
अँगना में कोसिया भरावेली
संजीव शुक्ल 'सचिन'
निज सुरक्षित भावी
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा दिल क्यो मचल रहा है
Ram Krishan Rastogi
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
।। अंतर ।।
Skanda Joshi
मानव जीवन में तर्पण का महत्व
Santosh Shrivastava
Loading...