Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश

जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश्ते, कुछ भी नहीं। एक नियत समय पर सबको छूटना ही है, पर छूटने की क्रिया में कब कुछ छूट पाया है। बल्कि शामिल हो जाती है, उदासी, उदासीनता, ऊब, घुटन, पीड़ा और भी न जाने क्या-क्या?
छूटने के क्रम में तो हरा पत्ता भी पीला-पीला पड़ जाता है, फिर हम तो मनुष्य हैं! और हमारी भावनाएं किसी की प्रयोगशाला, जिसपर लोग अपने प्रयोग करते रहते हैं!

“संवेदनशील हृदय के लिए कितनी बड़ी चुनौती है, प्रयोगात्मक दौर में भावनात्मक रहना”

●●●

262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
..
..
*प्रणय प्रभात*
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
"अवसाद"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Dipak Kumar "Girja"
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
नवगीत : मौन
नवगीत : मौन
Sushila joshi
*पत्थरों  के  शहर  में  कच्चे मकान  कौन  रखता  है....*
*पत्थरों के शहर में कच्चे मकान कौन रखता है....*
Rituraj shivem verma
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
लेकिन क्यों ?
लेकिन क्यों ?
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...