Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 2 min read

*जीवन के गान*

जीवन के गान
___________________________________

मिट्टी का तन चंचल मन,क्षण भर का मेरा जीवन ! जीवन प्रबल ! जीवन सम्बल ! जीवन ही परम प्रार्थना ! अनमोल है !
अतुल्य है ! श्रृंगार सकल संसार का ।
बीच खड़े दो राहे पर और क्या परिचय दूँ मैं? जीवन परम उपहार है।

शुन्य से आरम्भ शुन्य पर हीं अंत,
शाश्वत है शुन्य शुन्य हीं है चेतना,
शुन्य के आगोश में बसा हुआ संसार,
इश्वर की अनमोल कीर्ति सृजन का आधार, जीवन बिन संसार निराधार है।

इन्द्रधनुष-सी आभा इसकी आस-निराश से घिरि हुयी।
हँसना- रोना, खोना-पाना, पग-पग एक संघर्ष सुनिश्चित।
डग सीमित है लक्ष्य बड़ा, जीत-हार यहां एक अल्पविराम है।
जीवन महासंग्राम है।

दुख के अन्दर सुख की ज्योती सुख-दुख है सम्पूर्ण ज्ञान,
दर्द कठिन सह कर हीं जन्म लेता है इंसान ।
सुखी वही है जो ख़ुशी से दर्द सारे सह लीया,
हर क्षण चुनौती से भरा खुशी-खुशी स्वीकार किया।

जन्म-मरण पर वश नहीं,जीवन जीना पड़ता है।
कुछ कह कर, बहुत सह कर, अनदेखा करना पड़ता है।
चाँद लिखा होता कहाँ प्रत्येक की तकदीर में,
कई दीप जलाने पड़ते हैं तब अन्धेरा छँटता है!

मिल जाते हैं अनचाहे हीं पथ पर कितने साथी सुख में पग मिलाने को,
दुख के अंधेरे में जुग्नु भी पंखों में छुप जाते है। संधर्ष की चक्की चलती है तब जा कर रोटी मिलती है।
जीवन वह संघर्ष है।

निज शौर्य के बल पर प्राप्त झंझरित जीवन के क्रंदन से एकाकी हीं अच्छा।
हैं बड़े नादान वो जो पूर्णता की चाह में विधि के माथे भाग्य पटक संग चले वैसे पथिक के जिनसे पथ पर कोई मेल नहीं।

चाहे पीड़ा की मुक्ता या रिश्तों की हो चुकता समर पथ पर जो भी मिला, मैनें माना उसको ही सही।
क्यों पछताना सोंच कर, हार कहां थी जीत कहां?
खुशी-खुशी अपनाया मैनें दुनियाँ की है रीत यही।

यह कोई अभिमान नहीं स्वाभिमान की पूजा है।
जब तक चलेगी सांसे, जीतू या हारुँ, लडूं मैं। आहत मन की वेदना यूं व्‍यर्थ त्‍यागूँ भी नहीं तिल-तिल जलुं फिर भी दया की भीख नहीं मैं लूं किसी की।
समय गुजर जायेगा छोड़ यादें शेष निशानी।

फिर हृदय को ताप मिले या मुझे कोई श्राप मिले,
पथ के परिचित जो छुट गए, क्यों उनसे सूना हो अपना डग?
त्याग दें हर उन यादों को जो छुट गयी पीछे शेष निशानी।
जीवन बढ़ते जाना है।

सुन्दर सरस सलिल ये जीवन, भरे विशद संसार ने इसमें रंग अनेक ,
कई बोझ अपना डाल कर कई बोझ हमसे ले लिये फिर व्यर्थ क्यों कहती फिरूँ मैं,
जीवन एक अभिशाप है ? जीवन महा वरदान है।।
मुक्ता रश्मि
मुजफ्फरपुर, बिहार
___________________________

Language: Hindi
49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mukta Rashmi
View all
You may also like:
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
*तुलसी के राम : ईश्वर के सगुण-साकार अवतार*
Ravi Prakash
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
महादेव
महादेव
C.K. Soni
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
3441🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
परमपिता तेरी जय हो !
परमपिता तेरी जय हो !
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
Shyam Sundar Subramanian
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
मैं  ज़्यादा  बोलती  हूँ  तुम भड़क जाते हो !
मैं ज़्यादा बोलती हूँ तुम भड़क जाते हो !
Neelofar Khan
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
महामारी एक प्रकोप
महामारी एक प्रकोप
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
■ कौटिश नमन् : गुरु चरण में...!
■ कौटिश नमन् : गुरु चरण में...!
*प्रणय प्रभात*
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...